पैग़ाम ए इमाम हुसैन अ स अपने अज़ादारो के नाम ।।।।।

पैग़ाम ए इमाम हुसैन अ स अपने अज़ादारो के नाम ।।।।। मेरा पैग़ाम ज़माने को सुनाने वालो ।। मेरे ज़ख्मो को कलेजे से लगाने वालो ।। मेर...





पैग़ाम ए इमाम हुसैन अ स अपने अज़ादारो के नाम ।।।।।

मेरा पैग़ाम ज़माने को सुनाने वालो ।।
मेरे ज़ख्मो को कलेजे से लगाने वालो ।।

मेरे मातम से ज़माने को जगाने वालो
कर्बला क्या है ज़माने को बताने वालो ।।

दिल ए मुज़्तर के धड़कने की सदा भी सुन लो ।।
आज एक चाहने वाले का गिला भी सुनलो।।


याद तो होगा तुम्हे करबोबला का वह मुक़ाम ।।।
जिसके सन्नाटे में गुम हम हमा ए लश्कर ए शाम ।।

मैंने ज़ैनब को दिया था दम ए रुखसत ये पयाम ।।
लौट के जाना तो कहना मेरे शियों को सलाम ।।

दर्स ईसार ओ मोहब्बत का दिया था मैंने ।।
ज़ेर ए खंजर भी तुम्हे याद किया था मैंने ।।


अपनी अज़मत का कुछ एहसास तुम्हे है की नहीं ?
दिल को गरमाए जो वह प्यास तुम्हे है की नहीं ?

एहतेराम रहे अब्बास तुम्हे है की नहीं ?
मेरे मक़सद का भी कुछ पास तुम्हे है की नहीं ?

जाके मस्जिद में पयाम दिल ओ जान भी देते ।।
नौहा ख्वां मेरे बने थे तो अज़ान भी देते ।।


जिस चमन के लिए बहा था अली अकबर का लहू।।।
जिसपे टपका है गुलू ए अली असग़र का लहू।।

बह गया जिसके लिए मेरे भरे घर का लहू।।
काम जिस दीं पे आया बहत्तर का लहू।।।

तुम इस दीं की अज़मत का सबब भूल गए ।।
मेरी मजलिस तो पढ़ी और मेरा हक़ भूल गए ।।


दिलको तड़पा न सके जो वह मोहब्बत कैसी ।।
मेरे मक़सद की नहीं फ़िक्र तो उल्फत कैसी ।।

सर्द है जोश ए अज़ल गर तो इताअत कैसी ।।
जिससे सैराब न हो रूह वह पैमाना क्या।।

दूर मस्जिद से जो कर दे वह अज़खाना क्या ।।।
फर्श ए मजलिस में यह आपस में अदावत क्यू है ।।


मेरा ग़म जिसमे है इस दिल में कुदूरत क्यू है ।।
भाई भाई से है नाराज़ यह हिमाक़त क्यू है ।।

मेरे मातम में यह अग़यार की सीरत क्यू है ।।।
हुआ हमला कोई मक़सद पे तो रद कर न सके ।।

मेरा मातम तो किया मेरी मदद कर न सके ।।
हर ग़लत बात हर ग़लत फ़िक्र की तरदीद करो।।

मेरे असहाब के किरदार की तजदीद करो।।
अपने किरदार से उठकर मेरी ताईद करो।।

वरना अश्को की यह दौलत मुझे वापस कर दो।।।

मेरा ग़म मेरी मोहब्बत मुझे वापस कर दो ।।


प्रतिक्रियाएँ: 

Related

poetry 2382692444070378203

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item