Quran[three](6)

Ahlebayt[hot](3)

Editorial[dark](3)

Featured[two]

Articles[oneleft]

Messages[oneright]

Education[slider]

Women issues[combine]

भारत में शिया मुसलमानों का इतिहास और विस्तार | एस एम् मासूम

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२    AD ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत ...

कुरान में तलाक और हलाला कहाँ है और क्या है ?

सूरए बक़रह की आयत नंबर २२८ इस प्रकार है। और तलाक़ पाने वाली स्त्रियां तीन बार मासिक धर्म आने त...

जर्नलिज्म गीबत है और मीडिया वाले सिखाते हैं गुनाह करना |Allama Aqeel Al Gharvi

Allama Aqeel Al Gharvi  की यह मजलिस ज़रूर सुनें | इसे  सुनने के बाद जी चाहे वाह वाह करना और ...

शिया और सुन्नी क्या आज सौदिया और इरान होता जा रहा है |

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

80 किलोमीटर लंबे मार्ग पर दसियों लाख श्रद्धालुओं ने सामूहिक रूप से दोपहर की नमाज़ पढ़ी।

दुनिया के 60 देशों से दसियों लाख की संख्या में पवित्र नगर कर्बला पहुंच कर श्रद्धालुओं ने स...

तलाक की प्रक्रिया को पहले समझें फिर संशोधन की बात करें |

तीन तलाक का मज़ाक इसलिए बन रहा है क्यूँ की आज इस्लाम धर्म के कानून को कुरान की नज़र से बहुत क...

मेहदी जनाब ऐ कासिम निकालो लेकिन ग़लत निस्बत से नहीं |

अज़ादारी के  तरीकों आती जा रही तब्दीलियाँ और इस पे होने वाले एतराजात इस बात की तरफ इशारा करते ...

मुहर्रम / कर्बला / इमाम हुसैन (अ:स)

असहाबे हुसैनी करबला....अक़ीदा व अमल में तौहीद क़्शे इल्लल्लाह सहरा में लिख दिय ख़ुमैनी की द्रष्ट से फात करबला करामाते इंसानी की मे...

इमाम अली (अ) और हमारा समाज

इमाम अली (अ) ने फ़रमायाः हे लोगों हिदायत और नजात के रास्ते में आदेश पालन करने वालों की स...

माता-पिता की नारज़गी मौत को कठिन बना देती है

ता-पिता की नारज़गी मौत को कठिन बना देती है एक व्यक्ति की मौत का समय आ चुका था। उस व्यक...

रिश्तेदारों से दूरी मौत की वजह

कुलैनी अपनी पुस्तक अलकाफ़ी में लिखते हैं कि एक व्यक्ति इमाम सादिक़ (अ) के पास आया और कहन...

पड़ोस की सीमा और पड़ोसी-का-अधिकार

इमाम सादिक़ (अ) ने फ़रमायाः एक अंसारी हज़रत रसूले ख़ुदा (स) के पास आया और कहने लगाः ...

मोमिन को खुश करना बेहतरीन इबादत

मोमिन को प्रसन्न करना बेहतरीन इबादत इमाम हुसैन (अ) ने फ़रमाया मेरे नाना रसूले ख़ुदा (अ) ...

दुनिया का पहला क़त्ल इर्ष्या के कारण हुआ था |

ईश्वर ने सारे इन्सानों के पिता हज़रत आदम अलैहिस्सलाम को सम्बोधित किया और फ़रमायाः आप अपन...

सबसे पहले हज़रत मूसा (अ) ने नमाज़ पढ़ी

नमाज़ के महत्व के बारे मे केवल यही काफ़ी है कि हज़रत अली अलैहिस्सलाम ने मिस्र मे अपने प्रतिन...

नमाज़े शब पढ़ने का तरीक़ा

नमाज़े शब  पढ़ने का तरीक़ा नमाज़े शब जिसको नमाज़े तहज्जुद भी कहा जाता है एक मुस्तहब्बी ...

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा के मुआज्ज़ात और जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

index