झूटी क़सम खाने के नुक़सानात

     ♦ JHOOTI QASAM ♦ 🔻 Quran (بِسْمِ اللَّهِ الرَّحْمَٰنِ الرَّحِيمِ) (وَمِنَ النَّاسِ مَنْ يُعْجِبُكَ قَوْلُهُ فِي ال...



  

  ♦JHOOTI QASAM
🔻Quran
(بِسْمِ اللَّهِ الرَّحْمَٰنِ الرَّحِيمِ)
(وَمِنَ النَّاسِ مَنْ يُعْجِبُكَ قَوْلُهُ فِي الْحَيَاةِ الدُّنْيَا وَيُشْهِدُ اللَّهَ عَلَىٰ مَا فِي قَلْبِهِ وَهُوَ أَلَدُّ الْخِصَامِ)
🔻
"Insanon mein koi to aisa hai, jiski baten Duniyavi Zindagi mein tumhe bahut bhali maloom hoti hain, aur apni nek niyyati par woh bar bar Khuda ko gawah thairata hai, magar haqiqat mein wo badtareen Dushmane Haq hota hai."
Surah Baqarah: 204


लोगों में से कोई ऐसा है जिसकी बात इस सांसारिक जीवन ( दुनिया)  के बारे में तुम्हें लुभाती है, और वो अपने हृदय में मोमिनों से द्वेष  तुम रखने के बावजूद ईश्वर को गवाह बनाता है और वो (तुम्हारा) सबसे कट्टर शत्रु है। (2:204)
----------------------------------------------
Hadith
Rasule Khuda (saww):
"Sabse zyaada qasam khaanewala JAHANNUM ke liye TAIYYAR HO JAAYE."
(Tanzeemul Makatib, June 2006)

हज़रत मुहम्मद (स.ाव) ने फ़रमाया : सबसे ज़्यादा क़सम खाने वाला जहन्नम के लिए तैयार रहे | 
🔻
Rasule Khuda (saww):
"Meri ummat ke vyaapari (dhande mein) sachchi jhooti qasam khane ki wajah se balaao'n mein ghir jayenge."
(Rizq)
🔻
Rasule Khuda (saww):
"Jhooti qasam khaane se maal to bik jaayega, par dhanda tabaah ho jaayega."
(Nahjul Fasaha)
झूटी क़सम खाने से माल तो बिक जाता है लेकिन व्यापार ख़त्म हो जाता है |  नहजुल फासाहा 


प्रतिक्रियाएँ: 

Related

ahadith 9031744640396539074

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item