धार्मिक प्रवचनों को केवल कहानियों की तरह न सुने|

इंसान को जीवन में यदि कुछ पाना है तो उसके लिए मेहनत अवश्य करनी होती है लेकिन इन्सान की इच्छा हमेशा यही रही है की उसे कम या बिना मेहनत ...


इंसान को जीवन में यदि कुछ पाना है तो उसके लिए मेहनत अवश्य करनी होती है लेकिन इन्सान की इच्छा हमेशा यही रही है की उसे कम या बिना मेहनत के सबकुछ मिल जाए |अपनी कम मेहनत और अधिक लाभ की इच्छा को पूरी करने के लिए इन्सान शार्टकट के रास्ते तलाश करने लगता है | कभी छात्र और छात्राएं परीक्षा में नक़ल के रास्ते तलाशने लगते हैं और कभी अपना काम आसानी से करवाने के लिए लोग दफ्तरों में तो रिश्वत खोरों की तलाश करने लगते हैं | कभी हम लाटरी ,इनाम जैसे ईमेल और एस एम् एस के शिकार हो जाते हैं |संक्षेप में कहें तो हमारी यह शार्टकट की सोंच ही भ्रष्टाचार की जननी है |


इसी भ्रष्टाचार को रोकने के लिए धर्म बने हैं जिसमे हमें सही और गलत की पहचान बताई गयी, पाप और पुण्य के बारे में बताया| हमें अच्छे संस्कार देने की कोशिश धर्म के द्वारा हमेशा से की जाती रही है |

इंसान का स्वभाव यह है कि जो काम उसे कष्ट न दे ,ऐश ओ आराम का जरिया बने उसी और भागता है| धर्म के बताए रास्ते में मेहनत है, कष्ट है इसी कारण हमें धर्म तो पसंद है लेकिन धर्म के बताए रास्ते पसंद नहीं आते | हम मंदिरों और मस्जिदों में जाकर, प्रसाद और चढ़ावे की रिश्वत देने की बात करके ,बिना मेहनत बहुत कुछ पाने की प्रार्थना करना तो पसंद करते हैं लेकिन उसी भगवन, इश्वर के बताये रास्ते पे चलना पसंद नहीं करते |

यही कारण है की हम दोस्तों के बीच बैठ के ,ईमानदारी, सत्यवचन, संस्कारों की बात कर के भगवान के अवतारों, पैगम्बरों के किस्से बयान कर के खुद को बड़ा धार्मिक तो साबित करते हैं लेकिन उन बैटन की अहमियत हमारे जीवन में कहानियों से अधिक कुछ नहीं होती | इस ब्लॉगजगत की ही बात ले लें ऐसे बहुत से ब्लॉग हैं जो संस्कारों की बातें करते हैं ,समाज के हित की बातें करते हैं पढने वाले उनकी तारीफ भी करते हैं लेकिन ऐसे ब्लॉग को पढने में मज़ा नहीं आता | करीबी दोस्तों में बैठते हैं तो कहते हैं भाई बात तो सही कहता है है लेकिन मज़ा नहीं आता रोज़ रोज़ वही संस्कार की बातें सुन के | मज़ा तो आता है उन ब्लॉग पे जहां किसी की टांग खींची जाए,कुछ गरमा गरम झगडे हो रहे हों या फिर शान और शौकत की बात हो |

हम खुद को धार्मिक साबित करने के लिए अपने धर्म के बताये रास्तों पे चलने की जगह धर्म के नाम पे झगडा करना अधिक पसंद करते हैं |हम सत्यवादी लोगो की बातें भी करते हैं ,त्योगारों और ख़ास जगहों पे उनको नमन भी करते हैं लेकिन अपने बच्चों को पूरा इमानदार और सत्यवादी नहीं बनाना चाहते | होता यही है की जीवन में खुद को धार्मिक माने वाले इंसान का भी जब खुद के धर्म के द्वारा दिखाए रास्तों पे चलने का समय आता है तो यह जानते और समझते हुए की इन अवतारों और पैगम्बरों का बताया तरीका ही सही है हम उन रास्तों से अलग हट के अपने फायदे का रास्ता चुन लेते हैं |

इंसान की यही गलती इस समाज में फैले भ्रष्टाचार की जड़ है और इसी के गलती के कारन आज का इंसान अपना सुकून और चैन खोता जा रहा है |
लेखक :एस एम् मासूम 
प्रतिक्रियाएँ: 

Related

संपादकीय 3027985541124841622

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item