हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम

हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की समाधि पवित्र शहर मशहद मे है। जहाँ पर हर समय लाखो श्रद्धालु आपकी समाधि के दर्शन व सलाम हेतू एकत्रित ...



 https://www.facebook.com/jaunpurazaadari

हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की समाधि पवित्र शहर मशहद मे है। जहाँ पर हर समय लाखो श्रद्धालु आपकी समाधि के दर्शन व सलाम हेतू एकत्रित रहते हैं। यह शहर वर्तमान समय मे ईरान मे स्थित है।


नाम व लक़ब (उपाधी)

हज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम का नाम अली व आपकी मुख्य उपाधि रिज़ा है।

माता पिता

हज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम के पिता हज़रत इमाम काज़िम अलैहिस्सलाम व आपकी माता हज़रत नजमा थीं। आपकी माता को समाना, तुकतम, व ताहिराह भी कहा जाता था।

जन्म तिथि व जन्म स्थान

हज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम का जन्म सन् 148 हिजरी क़मरी मे ज़ीक़ादाह मास की ग्यारहवी तिथि को पवित्र शहर मदीने मे हुआ था।

शहादत (स्वर्गवास)

हज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम की शहादत सन् 203 हिजरी क़मरी मे सफर मास की अन्तिम तिथि को हुई। शहादत का कारण अब्बासी शासक मामून रशीद द्वारा खिलाया गया ज़हर था।

समाधि

हज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम की समाधि पवित्र शहर मशहद मे है। जहाँ पर हर समय लाखो श्रद्धालु आपकी समाधि के दर्शन व सलाम हेतू एकत्रित रहते हैं। यह शहर वर्तमान समय मे ईरान मे स्थित है।

हज़रत इमाम रिज़ा की ईरान यात्रा

अब्बासी खलीफ़ा हारून रशीद के समय मे उसका बेटा मामून रशीद खुरासान(ईरान) नामक प्रान्त का गवर्नर था। अपने पिता की मृत्यु के बाद उसने अपने भाई अमीन से खिलाफ़त पद हेतु युद्ध किया जिसमे अमीन की मृत्यु हो गयी। अतः मामून ने खिलाफ़त पद प्राप्त किया व अपनी राजधीनी को बग़दाद से मरू (ईरान का एक पुराना शहर) मे स्थान्तरित किया। खिलाफ़त पद पर आसीन होने के बाद मामून के सम्मुख दो समस्याऐं थी। एक तो यह कि उसके दरबार मे कोई उच्च कोटी का आध्यात्मिक विद्वान न था। दूसरी समस्या यह थी कि मुख्य रूप से हज़रत अली के अनुयायी शासन की बाग डोर इमाम के हाथों मे सौंपने का प्रयास कर रहे थे, जिनको रोकना उसके लिए आवश्यक था। अतः उसने इन दोनो समस्याओं के समाधान हेतू बल पूर्वक हज़रत इमाम रिज़ा अलैहिस्सलाम को मदीने से मरू (ईरान ) बुला लिया। तथा घोषणा की कि मेरे बाद हज़रत इमाम रिज़ा मेरे उत्तरा धिकारी के रूप मे शासक होंगे। इससे मामून का अभिप्राय यह था कि हज़रत इमाम रिज़ा के रूप मे संसार के सर्व श्रेष्ठ विद्वान के अस्तित्व से उसका दरबार शुशोभित होगा। तथा दूसरे यह कि इमाम के उत्तरा धिकारी होने की घोषणा से शियों का खिलाफ़त आन्दोलन लग भग समाप्त हो जायेगा या धीमा पड़ जायेगा।


सफर महीने की अंतिम तारीख पैग़म्बरे इस्लाम के प्राणप्रिय पौत्र हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की शहादत का दुःखद अवसर है।

पैग़म्बरे इस्लाम के पौत्र हज़रत इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम अपने समय में ज्ञान, समस्त सदगुणों और ईश्वरीय भय व सदाचारिता के प्रतीक थे। इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम भी दूसरे इमामों की भांति अत्याचारी शासकों की कड़ी निगरानी में थे। अधिकांश लोग इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम का महत्व नहीं समझते थे।

इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के बारे में एक प्रश्न जो सदैव किया जाता है वह यह है कि इमाम रज़ा ने मामून जैसे अत्याचारी शासक का उत्तराधिकारी बनना क्यों स्वीकार किया? इस प्रश्न के उत्तर में इस बिन्दु पर ध्यान दिया चाहिये कि मामून यह सुझाव इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के सामने क्यों प्रस्तुत किया? क्या यह सुझाव वास्तविक व सच्चा था या मात्र एक राजनीतिक खेल था और मामून इस कार्य के माध्यम से अपनी सरकार के आधारों को मज़बूत करने की चेष्टा में था?

मामून ने अपने भाई अमीन और दूसरे हज़ारों लोगों की हत्या करके सत्ता प्राप्त की थी वह किस प्रकार इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम को अपना उत्तराधिकारी बनाने के लिए तैयार हो गया था जबकि वह स्वयं इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम को एक प्रकार से अपना प्रतिस्पर्धी समझता था। उसके सुझाव की वास्तविकता और उसके लक्ष्य को स्वयं मामून की ज़बान से सुनते हैं।

जब मामून ने आधिकारिक रूप से इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के सामने अपने उत्तराधिकारी पद का सुझाव दिया तो बहुत से अब्बासियों ने मामून की भर्त्सना की और कहा कि तू क्यों खेलाफत के गर्व को अब्बासी परिवार से बाहर करना और अली के परिवार को वापस करना चाहता है? तुमने अपने इस कार्य से अली बिन मूसा रज़ा के स्थान को ऊंचा और अपने स्थान को नीचा कर दिया है। तूने एसा क्यों किया?

मामून बहुत ही धूर्त, चालाक और पाखंडी व्यक्ति था। उसने इस प्रश्न के उत्तर में कहा मेरे इस कार्य के बहुत से कारण हैं।

इमाम रज़ा के सरकारी तंत्र में शामिल हो जाने से वह हमारी सरकार को स्वीकार करने पर बाध्य हैं। हमारे इस कार्य से उनके प्रेम करने वाले उनसे विमुख हो जायेंगे और वे विश्वास कर लेंगे कि इमाम रज़ा वैसा नहीं हैं जैसा वह दावा करते हैं। मेरे इस कार्य का दूसरा कारण यह है कि मैं इस बात से डरता हूं कि अली बिन मूसा को उनकी हाल पर छोड़ दूं और वह हमारे लिए समस्याएं उत्पन्न करें कि हम उन पर नियंत्रण न कर सकें। इस आधार पर उनके बारे में लापरवाही से काम नहीं लिया जाना चाहिये। इस प्रकार हम धीरे धीरे उनकी महानता एवं व्यक्तित्व को कम करेंगे ताकि वह लोगों की दृष्टि में खिलाफत के योग्य न रह जायें और जान लो कि जब इमाम रज़ा को हमने अपना उत्तराधिकारी बना दिया तो फिर अबु तालिब की संतान में से किसी से डरने की कोई आवश्यकता नहीं है”

इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम मामून के षडयंत्र और उसकी चाल से भलिभांति अवगत थे और जानते थे कि उसने अपनी सरकार के आधारों को मज़बूत करने के लिए यह सुझाव दिया है परंतु इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम द्वारा मामून के धूर्ततापूर्ण सुझाव का स्वीकार किया जाना महीनों लम्बा खिंचा यहां तक कि उसने इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम को जान से मारने की धमकी दी और इमाम ने विवश होकर इस सुझाव को स्वीकार किया। इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम जब मदीने से मामून की सरकार के केन्द्र मर्व आ रहे थे तो उस समय उन्होंने जो कुछ कहा उससे समस्त लोग समझ गये कि मामून इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम को किसी चाल के अंतर्गत उनकी मातृभूमि से दूर कर रहा है। इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम जब मदीने से मर्व जाने के लिए तैयार हुए तो वह पैग़म्बरे इस्लाम की पावन समाधि पर गये, अपने परिजनों से विदा और काबे की परिक्रमा की और अपने कार्यों एवं बयानों से सबके लिए यह सिद्ध कर दिया कि यह उनकी मृत्यु की यात्रा है जो मामून का उत्तराधिकारी बनने और सम्मान की आड़ में हो रही है।

उसके बाद इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम ने हर अवसर से लाभ उठाया और लोगों तक यह बात पहुंचा दी कि मामून ने बाध्य करके उन्हें अपना उत्तराधिकार बनाया है और इमाम हमेशा यह कहते थे कि हमें हत्या की धमकी दी गयी यहां कि मैंने उत्तराधिकारी के पद को स्वीकार किया।

साथ ही इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के उत्तराधिकारी बनने की एक शर्त यह थी कि इमाम किसी को आदेश नहीं देंगे, किसी काम को रोकेंगे नहीं, सरकार के मुफ्ती और न्यायधीश नहीं होंगे, किसी को न पद से हटायेंगे और न किसी को पद पर नियुक्त करेंगे और किसी चीज़ को परिवर्तित नहीं करेंगे। इस प्रकार इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम ने स्वयं को सरकार के विरुद्ध हर प्रकार के कार्य से अलग कर लिया और दूसरी बात यह थी कि  उत्तराधिकारी बनने के लिए इमाम रज़ा ने जो शर्तें लगायी थीं वह इमाम की आपत्ति की सूचक थीं। क्योंकि यह बात स्पष्ट थी कि जो व्यक्ति स्वयं को समस्त सरकारी कार्यों से अलग कर ले वह सरकार का मित्र व पक्षधर नहीं हो सकता। मामून भी इस बात को अच्छी तरह समझ गया अतः बारम्बार उसने इमाम से कहा कि पहले की शर्तों का उल्लंघन व अनदेखी करके वह सरकारी कार्यों में भाग लें। इसी तरह वह अपने विरोधियों को नियंत्रित करने हेतु इमाम रज़ा का दुरूप्रयोग करना चाहता था। इमाम रज़ा उत्तराधिकारी का पद स्वीकार करने की शर्तों को याद दिलाते थे। मामून ने इमाम रज़ा से मांग की कि वह अपने चाहने वालों को एक पत्र लिखकर उन्हें मामून का मुकाबला करने से मना कर दें क्योंकि इमाम के चाहने वालों ने संघर्ष करके मामून के लिए परिस्थिति को कठिन बना दिया था। इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम ने मामून की बात के जवाब में कहा” मैंने शर्त की थी कि सरकारी कार्यो में हस्तक्षेप नहीं करूंगा और जिस दिन से मैंने उत्तराधिकारी बनना स्वीकार किया है उस दिन से मेरी अनुकंपा में कोई वृद्धि नहीं हुई है”

ईद की नमाज़

मामून ने इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम से ईद की नमाज़ पढ़ाने के लिए कहा। इसके पीछे मामून का लक्ष्य यह था कि लोग इमाम रज़ा के महत्व को पहचानें और उनके दिल शांत हो जायें परंतु आरंभ में इमाम ने ईद की नमाज़ पढ़ाने हेतु मामून की बात स्वीकार नहीं की पंरतु जब मामून ने बहुत अधिक आग्रह किया तो इमाम ने उसकी बात एक शर्त के साथ स्वीकार कर ली। इमाम की शर्त यह थी कि वह पैग़म्बरे इस्लाम और हज़रत अली अलैहिस्सलाम की शैली में ईद की नमाज़ पढ़ायेंगे। मामून ने भी इमाम के उत्तर में कहा कि आप स्वतंत्र हैं आप जिस तरह से चाहें नमाज़ पढ़ा सकते हैं।

इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम ने पैग़म्बरे इस्लाम की भांति नंगे पैर घर से बाहर निकले और उनके हाथ में छड़ी थी। जब मामून के सैनिकों एवं प्रमुखों ने देखा कि इमाम नंगे पैर पूरी विनम्रता के साथ घर से बाहर निकले हैं तो वे भी घोड़े से उतर गये और जूतों को उतार कर वे भी नंगे पैर हो गये और इमाम के पीछे पीछे चलने लगे। इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम हर १० क़दम पर रुक कर तीन बार अल्लाहो अकबर कहते थे। इमाम के साथ दूसरे लोग भी तीन बार अल्लाहो अकबर की तकबीर कहते थे। मामून इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के इस रोब व वैभव को देखकर डर गया और उसने इमाम को ईद की नमाज़ पढ़ाने से रोक दिया। इस प्रकार वह स्वयं अपमानित हो गया।

इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम ने उत्तराधिकारी के पद से बहुत ही होशियारी एवं विवेक से लाभ उठाया। इमाम ने यह पद स्वीकार करके एसा कार्य किया जो पैग़म्बरे इस्लाम के पवित्र परिजनों के इतिहास में अद्वतीय है। इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम ने वह बातें सबके समक्ष कह दीं जिसे पैग़म्बरे इस्लाम के पवित्र परिजनों ने एक सौ पचास वर्षों के दौरान घुटन के वातावरण में अपने अनुयाइयों व चाहने वालों के अतिरिक्त किसी और से नहीं कहा था।

मामून ज्ञान की सभाओं का आयोजन करता था और उसमें पैग़म्बरे इस्लाम के कथनों को बयान करने वालों और धर्मशास्त्रियों आदि को बुलाता था ताकि वह स्वयं को ज्ञान प्रेमी दर्शा सके परंतु इस कार्य से उसका मूल लक्ष्य यह था कि शायद इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम से कोई कठिन प्रश्न किया जाये जिसका उत्तर वह न दे सकें। इस प्रकार इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम अविश्वसनीय हो जायेंगे किन्तु इस प्रकार की सभाओं का उल्टा परिणाम निकला और सबके लिए सिद्ध हो गया कि इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम ज्ञान, सदगुण और सदाचारिता की दृष्टि से पूरिपूर्ण व्यक्ति हैं और वही खिलाफत के योग्य व सही पात्र हैं। पैग़म्बरे इस्लाम के पवित्र परिजनों को सत्तर वर्षों तक मिम्बरों से बुरा भला कहा गया और वर्षों तक कोई उनके सदगुणों को सार्वजनिक रूप से बयान करने का साहस नहीं करता था परंतु इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के उत्तराधिकारी काल में उनके सदगुणों को बयान किया गया और उन्हें सही रूप में लोगों के समक्ष पेश किया गया।

इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम ने उत्तराधिकारी का पद स्वीकार करके बहुत से उन लोगों को पैग़म्बरे इस्लाम के पवित्र परिजनों से अवगत किया जो अवगत नहीं थे या अवगत थे परंतु उनके दिलों में पैग़म्बरे इस्लाम के पवित्र परिजनों के प्रति द्वेष व शत्रुता थी।  इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के उत्तराधिकारी के संबंध में जो बहुत से शेर हैं वे इसी परिचय एवं लगाव के सूचक व परिणाम हैं। उदाहरण स्वरूप देअबिल नाम के एक सरकार विरोधी प्रसिद्ध शायर थे और उन्होंने कभी भी किसी खलीफा या खलीफा के उत्तराधिकारी के प्रति प्रसन्नता नहीं दिखाई थी। इसी कारण सरकार सदैव उनकी खोज में थी और वह लम्बे वर्षों तक नगरों एवं आबादियों में भागते व गोपनीय ढंग से जीवन व्यतीत करते रहे पंरतु देअबिल इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की सेवा में पहुंचे और उन्होंने अत्याचारी व असत्य अमवी एवं अब्बासी सरकारों के विरुद्ध अपने प्रसिद्ध शेरों को पढ़ा। कुछ ही समय में देअबिल के शेर पूरे इस्लामी जगत में फैल गये। इस प्रकार से कि देअबिल के अपने नगर पहुंचने से पहले ही उनके शेर लोगों तक पहुंच गये और लोगों को ज़बानी याद हो गये थे। यह विषय इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की सफलता के सूचक हैं।

निधन

मामून अपनी सत्ता को खतरे से बचाने के लिए इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम को मदीने से मर्व लाया था परंतु जब उसने देखा कि इमाम की होशियारी व विवेक से उसके सारे षडयंत्र विफल हो गये हैं तो वह इन विफलताओं की भरपाई की सोच में पड़ गया। अंत में अब्बासी खलीफा मामून ने गुप्त रूप से इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम को शहीद करने का निर्णय किया ताकि उसकी सरकार के लिए कोई गम्भीर समस्या न खड़ी हो जाये। अतः उसने इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम को विष कर शहीद कर दिया और इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम वर्ष २०३ हिजरी क़मरी में सफर महीने की अंतिम तारीख को इस नश्वर संसार से परलोक सिधार गये।


।।अल्लाहुम्मा सल्ले अला मुहम्मद व आले मुहम्मद।।



प्रतिक्रियाएँ: 

Related

इमाम रज़ा 7826301373727357063

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item