हजरत मुहम्मद (स.अ.व) के समय में बनी हिन्दुस्तान की पहली मस्जिद " चेरमान मस्जिद" कोडुनगल्लूर (Cranganore) केरल में है |



हजरत मुहम्मद (स.अ.व) के समय में बनी हिन्दुस्तान की पहली मस्जिद " चेरमान मस्जिद"  कोडुनगल्लूर (Cranganore) केरल में है  | यह सुन के ताज्जुब न करें क्यूँ की यह सत्य है | हकीकत में भारत में मुसलमानों का आगमन अरब से व्यापार करने भारत आने वालों की वजह से हुआ | हजरत मुहम्मद (स.अ.व) के समय में भी भारत के समुद्री इलाकों में अरब व्यापार के सिलसिले में आयाजाया करते थे | उस समय सबसे अधिक व्यापार भारत से मसालों का हुआ करता था |


आज यह मस्जिद ऐसी हालत में है |



पुरानी शक्ल 
इस मस्जिद के गेट पे ही लिखा है "चेरमान पेरुमाल मोस्क – सन ६२९ में निर्मित” जिस से यह पता चलता है की यह मस्जिद हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात के तीन साल पहले बनी थी और इसके अनुसार यह भारत में बनी पहली मस्जिद कहलाई |


माना जाता है की भारत और अरब में व्यापार का रिश्ता इस्लाम आने के पहले से था और कोडुनगल्लूर के इलाके में समुद्री रास्ते से व्यापार के लिए  आने वाले अरबी लोग रहते थे और उन्होंने वहाँ के राजा से अपनी प्रार्थना स्थल के लिए जगह मांगी तो राजा ने यह स्थल दे दिया जहां अरब के लोग प्रार्थना किया करते थे और इस्लाम आने के बाद इस स्थान को मस्जिद का नाम दे दिया |
हर साल इस मस्जिद में  बच्चों के विद्याभ्यासके (आज जिसे मकतब कहा जाता है ) आयोजन किया जाता है | 

वहीँ उस इलाके के पास एक किला भी है और यह इलाका केरल का समुद्री इलाका है | मशहूर है की की वहाँ का राजा जिसे चेरमान पेरुमाल कहा जाता था एक चांदनी रात को अपने महल के छत पर टहल रहा था तो उसे आसमान पर चन्द्रमा दो टुकड़ों में दिखाई दिया अब राजा को चाँद के दो टुकड़ों में दिखने  का कारण समझ में नहीं आया. राज दरबार में भी कोई समाधान पूर्वक उत्तर नहीं दे सका. एक अरब व्यापारियों का प्रतिनिधि मंडल राजा से मिलने आया था और राजा ने दो टुकड़ों में चाँद के देखे जाने के बारे में अपनी बात रखी. उन अरबों ने बताया कि यह पैगम्बर मुहम्मद का कमाल था. राजा ने मन ही मन पैगम्बर से मिलने की ठानी. अपने राज्य को अपने ही सामंतों में विभाजित कर दिया और मक्का के लिए रवाना हो गया. वहां जाकर पैगम्बर मुहम्मद से मुलाकात की और इस्लाम धर्म को स्वीकार कर लिया. अब वो ताजुद्दीन  कहलाये परन्तु उन्होंने अपने आप को अब्दुल्ला सामूदिरी कहलाना पसंद किया था| घर वापसी के दौरान राजा  गंभीर रूप से बीमार पड़ गए तो उन्होंने पैगम्बर मुहम्मद के एक अनुयायी मलिक बिन दीनार को एक ख़त देकर कोडुनगल्लूर भिजवा दिया जिसकी वहाँ  अच्छी आवभगत हुई और उसने ही वहां सन ६२९ में प्रथम मस्जिद की स्थापना की | वहां परिसर में ही जो दो पुरानी कब्रें हैं उन्हें हबीब बिन दीनार और उसकी पत्नी ख़ुमरिया बी का माना जाता है|  इस बात का ज़िक्र १६ वीं सदी में शेख जैनुद्दीन द्वारा लिखे तुहाफत-उल-मुजाहिदीन में मिलता है | लेकिन यह किवदंती है या  हकीकत जानने के लिए तहकीक ज़रूरी है |

लेखक एस एम् मासूम 

www.hamarivani.com
प्रतिक्रियाएँ: 

Related

history of shia 3476444268058481803

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा के मुआज्ज़ात और जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item