यजीद ने की थी सरे इमाम हुसैन (अ.स) की बेहुरमती -सुन्नी किताब से |

साधारण रूप से ये रिवायत वर्णन की जाती है के यज़ीद के सामने जब इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु का सर मुबारक लाया गया तो वह आप के दांतों...

साधारण रूप से ये रिवायत वर्णन की जाती है के यज़ीद के सामने जब इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु का सर मुबारक लाया गया तो वह आप के दांतों पर छड़ी  मारने लगा इसी समय वहाँ उपस्थित एक सहाबी रज़ियल्ला जानना हु तआ़ला अन्हु ने इस को सख्ती से रोका, मैं ये जान्ना चाहता हुं के ये रिवायत किस पुस्तक में है और वह सहाबी का नाम क्या है?

आप ने जिस रिवायत के बारे में पूछा है इस को अल्लामा इब्न कसीर (जन्मः 700, देहान्तः 774 हिज्री) ने अल बिदायह वन निहायह, जिल्द 8, पः 209 में लिखित है और वह सहाबी जलील रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु जिन्हों ने यज़ीद की इस हरकत पर नकीर व निन्दा फरमाई, हज़रत अबु बरज़ह सलमी रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु हैं।  

हाफिज़ इब्न हजर असखलानी रहमतुल्लाहि अलैह (जन्मः 773, देहान्तः 852 हिज्री) ने इन का मुबारक नाम नुज़ला बिन उ़बैद रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु वर्णन किया है।  

(तहज़ीब अल तहज़ीब, जिल्द 10, पः 399)  

अल बिदायह वन निहायह, जिल्द 8, पः 209 के हवाले से वर्णन रिवायत निम्नलिखित हैः- 

अबु मिखनफ ने अबु हमज़ा सिमाली से वर्णित की है, इन्हों अबदुल्लाह यमानी से वर्णित की है, इन्हों ने खासिम बिन बुखैत से वर्णित की है, इन्हों ने कहाः जब इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु का सर अनवर के सामने रखा गया इस के हाथ में एक छड़ी थी जिस से वह आप के सामने मुबारक दांतों को कचोके देने लगा।  फिर इस ने कहाः निश्चय इन की और हमारी मिसाल ऐसी है जैसा के हुसैन बिन हिम्माम मिर्री ने कहा हमारी तलवारें ऐसे लोगों की खोपड़ियां फोड़ती हैं जो हम पर प्रभावित व शक्ति रखते थे और जो हद तक अवज्ञा व आज्ञाभंग और अत्याचारी थे।  हज़रत अबु बरज़ह सलमी रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु ने फरमायाः सुन ले अए यज़ीद!  खुदा की कसम तो अपनी छुरी इस स्थान पर मार रहा है जहाँ मैं ने रसूल अकरम सल्लल्लाहु तआ़ला अलैहि वसल्लम को चूमते और चूसते हुए देखा है।  पिर फरमाया सावधान हो जा!  अए यज़ीद क़यामत के दिन इमाम हुसैन रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु इस शान व प्रतिभा से आएंगे के हज़रत मुहम्मद मुसतफा सल्लल्लाहु तआ़ला अलैहि वसल्लम होंगे और तू इस प्रकार आएगा के तेरा दरफदार व समर्थक इब्न ज़ियाद दिब्द निहाद होगा।  

(अल बिदायह वन निहायह, जिल्द 8, पः 208)  

अधिक वर्णन पुस्तक की जिल्द 8, पः 215, पर इसी घटना से संबंधित रिवायत अंत में इस प्रकार व्याख्या हैः- 


भाषांतरः- इस समय यज़ीद से अबु बरज़ह सलमी रज़ियल्लाहु तआ़ला अन्हु ने फरमायाः अपनी छड़ी को हटाले!  खुदा की कसम मैं ने अधिकता से रसूल पाक सल्लल्लाहु तआ़ला अलैहि वसल्लम को अपना दहन (पवित्र थूक) इमाम हुसैन के दहन पर रख कर चूमते हुए देखा है।  
प्रतिक्रियाएँ: 

Related

Imam husain 6136861451017235064

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item