यह गलत है की हजरत आयशा की उम्र 6 साल की थी |

इस्लाम की सच्चाई व पैगम्बर मोहम्मद(स.) का बेदाग़ चरित्र शुरूआत से ही इस्लाम दुश्मनों की नज़र में खटकता रहा है। और वे नबी के चरित्र पर उंगली...

59655_144561359024417_397323971_nइस्लाम की सच्चाई व पैगम्बर मोहम्मद(स.) का बेदाग़ चरित्र शुरूआत से ही इस्लाम दुश्मनों की नज़र में खटकता रहा है। और वे नबी के चरित्र पर उंगली उठाने के मौके ढूंढते रहे हैं। इसके लिये अक्सर वे ज़ईफ़ हदीसों का सहारा लेने से नहीं चूकते, अर्थात जिनकी रावियों के सिलसिले में कहीं कोई कमज़ोर कड़ी पायी जाती है। इसी तरह का एक निहायत गलत आक्षेप ये है कि पैगम्बर मोहम्मद(स.) ने जब हज़रत आयशा(र.) से शादी की तो उनकी उम्र मात्र छह साल थी। यह बात पूरी तरह आधारहीन है कि नबी(अ.) से शादी के वक्त हज़रत आयशा(र.) की उम्र छह साल थी। ऐतिहासिक रूप से इसका कोई प्रमाण नहीं और हक़ीक़त इसके उलट है। 
तमाम इतिहासकार इसपर सहमत हैं कि हज़रत आयशा(र.) की बड़ी बहन हज़रत अस्मा(र.) उनसे दस साल बड़ी थीं।(1,2) और उनकी मृत्यु सन 73 हिजरी में 100 साल की उम्र में हुई (3,4,5,6) अर्थात हिजरी वर्ष आरम्भ होने के समय उनकी उम्र 27 या 28 साल थी। और इस तरह हिजरी वर्ष आरम्भ होने के समय हज़रत आयशा(र.) की उम्र 17 या 18 साल थी जबकि सन 2 हिजरी में उनकी शादी हुई। अर्थात शादी के समय हज़रत आयशा(र.) की उम्र 19 या 20 साल थी।
दूसरा सुबूत हज़रत आयशा(र.) का स्वयं का क़ौल है जो कि सहीह बुखारी में इस तरह दर्ज है,(7) ''जब सूर: अल क़मर का नुज़ूल हुआ उस समय मैं किशोरावस्था (जारिया:) में थी।" ज्ञात रहे कि सूर: अल क़मर का नुज़ूल हिजरी वर्ष आरम्भ होने के 8 साल पहले हुआ था। अब किसी किशोरी की आयु दस साल बाद अर्थात शादी के समय क्या होगी इसका सहज ही अंदाज़ा लगाया जा सकता है।
तबरी के अनुसार, ''पैगम्बर मोहम्मद(स.) ने जब इस्लाम का पैगाम दिया, उससे पहले हज़रत अबूबक्र(र.) ने दो शादियां की थीं। पहली बीवी का नाम फातिला था उनसे एक बेटा अब्दुल्लाह व बेटी अस्मा हुई । जबकि दूसरी बीवी की नाम उम्मे रूमाँ था। इनसे बेटा अब्दुर्रहमान व बेटी आयशा (र.) हुई । ये चारों इस्लाम का पैगाम आने से पहले हो चुके थे।(8) रसूल(स.) ने इस्लाम का पैगाम जब दिया था तो उनकी उम्र थी चालीस साल। जबकि हिजरत के वक्त उनकी उम्र थी 52 साल। उसके दो साल बाद उन्होंने हज़रत आयशा(र.) से शादी की। इस तरह भी इस शादी के वक्त हज़रत आयशा(र.) की उम्र 14 साल से ज़्यादा ही ठहरती है, कम नहीं।
गर्ज़ ये कि इस्लाम के रसूल(स.) पर लगाया गया ये इल्ज़ाम पूरी तरह गलत है कि उन्होंने किसी बच्ची से शादी की थी।           
1. Siyar A’lama-nubala, Al-Zahabi, Vol. 2, pg 289, Arabic, Muassasatu-risalah, 1992
2. Al-Bidayah wa-nihayah, Ibn Kathir, Vol. 8, pg 371, Dar al-fikr al-`arabi, Al-jizah, 1933
3. Al-Bidayah wa-nihayah, Ibn Kathir, Vol. 8, p. 372 
4. Dar al-fikr al-`arabi, Al-jizah, 1933
5. Ibne Asakir vol 69 Page 18
6. Alsunnan Alkubra Albehaqi Vol.6 Page 204 
7. Sahih Bukhari, kitabu’l-tafsir, Bab QaulihiBal al-sa`atu Maw`iduhum wa’l-sa`atu adha’ wa amarr)
8.Tarikh Tabari, vol. 4, p. 50
लेखक :जीशान जैदी












प्रतिक्रियाएँ: 

Related

knowledge 3012198445749842656

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item