२७ रजब शब् ऐ मिराज और बेअसत का मुबारक दिन

यह रजब का महिना है और इस महीने की बड़ी अहमियत है. २७ रजब का दिन मिराज का दिन तो लोग याद रखते हैं, लेकिन यह दिन बेअसत का दिन भी है, जिसको...

यह रजब का महिना है और इस महीने की बड़ी अहमियत है. २७ रजब का दिन मिराज का दिन तो लोग याद रखते हैं, लेकिन यह दिन बेअसत का दिन भी है, जिसको कम लोग  याद रखते हैं । बेअसत का अर्थ होता है ईश्वर द्वारा किसी मनुष्य को, मानव जाति के मार्गदर्शन के लिए चुना जाना। यह वह दिन है जब पैग़म्बरे इस्लाम हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम ने ईश्वर के आदेश पर औपचारिक रूप से अपने पैग़म्बर होने की घोषणा की ।  पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम की बेअसत के साथ ही ईश्वरीय संदेशों (कुरआन का आना)  का क्रम आरंभ हो गया और मानव समाज के मार्गदर्शन की भूमिका प्रशस्त हो गयी।
निश्चित रूप से बेअसत से पूर्व भी हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम की जीवन शैली व उनके व्यवहार में बहुत से आध्यात्मिक लक्षण देखे जा सकते थे उन्होंने युवास्था पवित्रता, सच्चाई, उदारता तथा नैतिकता के साथ व्यतीत की।
इस महत्वपूर्ण घटना के १३ वर्ष बाद पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम ने मक्का नगर से मदीना पलायन किया जिसके बाद इस्लामी कैलैन्डर अर्थात हिजरी कैलेन्डर का आरंभ हुआ।
हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम, ने तौरैत की जो उनसे पूर्व हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम पर उतरी थी, पुष्टि की और इसी प्रकार अपने बाद एक ऐसे ईश्वरीय दूत के आगमन की सूचना दी थी जिसका नाम अहमद होगा। याद रहे अहमद, पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम का दूसरा नाम है।
पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम के बारे में यहूदियों और ईसाइयों के धर्म ग्रंथों में पहले ही सूचना दी जा चुकी थी।
क़ुरआने मजीद के सूरए बक़रह की आयत नंबर २१३ में जो कुछ कहा गया है उसका आशय यह है कि लोग आरंभ में एक थे किंतु बाद में उनमें दूरी व फूट उत्पन्न हो गयी और इसी दौरान अल्लाह ने अपने दूतों को भेजा जो लोगों को शुभ सूचना और चेतावनी देते हैं तथा उन पर एसी आसमानी किताबें भी उतारीं जो सत्य की ओर बुलाने वाली हैं ताकि ईश्वरीय दूत इन ग्रंथों के आधार पर लोगों के झगड़ों का निपटारा करें। क़ुरआन के आधार पर पैग़म्बरों और ईश्वरीय दूतों को भेजने का एक अन्य उद्देश्य, मनुष्य को पवित्रता के मार्ग और उसके स्थान व परिणाम से अवगत कराना है ताकि इस प्रकार से मनुष्य की वह योग्यताएं फले फूलें जो ईश्वर ने उसके अस्तित्व में निहित रखी हैं। बेअसत, मनुष्य को अज्ञानता के अंधकारों, बुरी लतों, बुरे स्वभाव, मानव के मन मस्तिष्क पर छा जाने वाली ग़लत धारणाओं तथा अत्याचार व उल्लंघन के अधंयारों से निकाल कर प्रकाश की ओर बढ़ाती और मार्गदर्शन करती है।
इस प्रकार से हम देखते हैं कि पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम की बेअसत अर्थात मनुष्य के मार्गदर्शन का एक महत्वपूर्ण उद्देश्य, मानव समाज में भाईचारे को प्रचलित करना तथा स्नेह व सहिष्णुता व सह्रदयता जैसी मानवीय भावनाओं को, जो उस काल की अज्ञानता के अंधकारों में कहीं लुप्त हो गयी थीं पुनर्जीवन प्रदान करना था ।
यह वोह दिन है जब इंसान को अपनी अपनी ज़िम्मेदारी को महसूस करना चहिये और पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैही व आलेही व सल्लम के उद्देश्य को आगे बढ़ाते हुए , समाज मैं भाईचारे को प्रचलित करना चाहिए जिस से शांति स्थापित हो।
प्रतिक्रियाएँ: 

Related

२७ रजब शब् ऐ मिराज और बेअसत 76494507026947880

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा के मुआज्ज़ात और जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item