विलादत अमीरुल मोमिनीन हजरत अली (अ.स) मुबारक

विलादत अमीरुल मोमिनीन हजरत अली (अ.स) मुबारक  अल्लाह के रसूल हजरत मुहम्मद (स.अ.व) के  दामाद हजरत अली (अ.स) का जन्म 17 मार्च 600 ,13 ...


विलादत अमीरुल मोमिनीन हजरत अली (अ.स) मुबारक 

अल्लाह के रसूल हजरत मुहम्मद (स.अ.व) के  दामाद हजरत अली (अ.स) का जन्म 17 मार्च 600 ,13 रज्जब शुक्रवार को 599 ईसा पूर्व , मक्का में और हदीसों के आधार पर मस्जिदुल हराम और काबे अंदर हुआ था| काबे की दीवार का वो हिस्सा जिसे आज रुक्न ऐ यमनी कहते हैं वो दो हिस्से मैं हो गयी और उसी रास्ते से हज़रत अली (अ.स) की माँ काबे के अंदर गयीं | आज भी वो दीवार बार बार बनाने के बाद भी वहीं से टूटी हुई है |  इस रोज़ दुनिया भर के मुसलमान खुशियाँ मानते हैं | इस वर्ष १३व रजब २४ मई २०१३ को पड़ेगा और उत्तर प्रदेश में इस दिन पब्लिक हॉलिडे घोषित है |

मुसलमानों के खलीफा और हजरत मुहम्मद (स.अ.व) के उत्तराधिकारी हज़रत अली (अ.स) का दर्जा बहुत बुलंद है | हजरत अली के जन्म दिवस को पूरी दुनिया में हर्ष व उल्लास के साथ मनाया जाता है |मुसलमान इस दिन मिठाइयाँ बांटते और एक दुसरे को बधाइयाँ देते हैं |हज़रत अली अलैहिस्सलाम बड़ी ही कोमल प्रवृत्ति के स्वामी थे। उनकी यह विशेषता उनके कथन और व्यवहार दोनों में देखने को मिलती है। हजरत अली ने वैज्ञानिक जानकारियों को बहुत ही रोचक ढंग से आम आदमी तक पहुँचाया। एक प्रश्नकर्ता ने उनसे सूर्य की पृथ्वी से दूरी पूछी तो जवाब में बताया की एक अरबी घोड़ा पांच सौ सालों में जितनी दूरी तय करेगा वही सूर्य की पृथ्वी से दूरी है. उनके इस कथन के चौदह  सौ सालों बाद वैज्ञानिकों ने जब यह दूरी नापी तो 149600000 किलोमीटर पाई गई। अगर अरबी घोडे की औसत चाल 35 किमी/घंटा ली जाए तो यही दूरी निकलती है।


हजरत अली (अ.स) ने अपनी खिलाफत के समय अद्धितीय जनतांत्रिक सरकार की स्थापना की। उनके शासन का आधार न्याय था। समाज में असत्य पर आधारित या किसी अनुचति कार्य को वे कभी भी सहन नहीं करते थे। उनके समाज में जनता की भूमिका ही मुख्य होती थी और वे कभी भी धनवानों और शक्तिशालियों पर जनहित को प्राथमिक्ता नहीं देते थे। जिस समय उनके भाई अक़ील ने जनक्रोष से अपने भाग से कुछ अधिक धन लेना चाहा तो हज़रत अली अलैहिस्सलाम ने उन्हें रोक दिया। उन्होंने पास रखे दीपक की लौ अपने भाई के हाथों के निकट लाकर उन्हें नरक की आग के प्रति सचेत किया। वे न्याय बरतने को इतना आवश्यक मानते थे कि अपने शासन के एक कर्मचारी से उन्होंने कहा था कि लोगों के बीच बैठो तो यहां तक कि लोगों पर दृष्टि डालने और संकेत करने और सलाम करने में भी समान व्यवहार करो। यह न हो कि शक्तिशाली लोगों के मन में अत्याचार का रूझान उत्पन्न होने लगे और निर्बल लोग उनके मुक़ाबिले में न्याय प्राप्ति की ओर से निराश हो जाएं।

उनकी दृष्टि में दरिद्रता से बढ़कर आत्म-सम्मान को क्षति पहुंचाने उनकी दृष्टि वाली कोई चीज़ नहीं होती। वे कहते हैं कि दरिद्रता मनुष्य की सबसे बड़ी मौत है। यही कारण था कि अपने शासनकाल में जब बहुत बड़ा जनकोष उनके हाथ में था तब भी वे अरब की गर्मी में अपने हाथों से खजूर के बाग़ लगाने में व्यस्त रहते और उससे होने वाली आय को दरिद्रों में वितरित कर दिया करते थे ताकि समाज में दरिद्रता और दुख का अंत हो सके।

हज़रत अली अलैहिस्सलाम सदा ही कहा करते थे कि मेरी रचना केवल इसलिए नहीं की गई है कि चौपायों की भांति अच्छी खाद्य सामग्री मुझे अपने में व्यस्त कर ले या सांसारिक चमक-दमक की ओर मैं आकर्षित हो जाऊं और उसके जाल में फंस जाऊं। मानव जीवन का मूल्य अमर स्वर्ग के अतिरिक्त नहीं है अतः उसे सस्ते दामों पर न बेचें। हज़रत अली का यह कथन इतिहास के पन्ने पर एक स्वर्णिम समृति के रूप में जगमगा रहा है कि ज्ञानी वह है जो अपने मूल्य को समझे और मनुष्य की अज्ञानता के लिए इतना ही पर्याप्त है कि वह स्वयं अपने ही मूल्य को न पहचाने।

हज़रात  अली की सबसे मशहूर व उपलब्ध किताब नहजुल बलागा है, जो उनके खुत्बों (भाषणों) का संग्रह है. इसमें भी बहुत से वैज्ञानिक तथ्यों का वर्णन है। हजरत अली (अ.स) को मस्जिद ऐ कुफा में इब्न ऐ मुलजिम नाम के गद्दार व्यक्ति ने शहीद कर दिया और वहीं नजफ़ में उनका रौज़ा आज भी मौजूद है |हज़रत इमाम अली सन् 40 हिजरी के रमज़ान मास की 19 वी तिथि को जब सुबह की नमाज़ पढ़ने के लिए गये तो सजदा करते समय अब्दुर्रहमान पुत्र मुलजिम ने आप के ऊपर तलवार से हमला किया जिस से आप का सर बहुत अधिक घायल हो गया तथा दो दिन पश्चात रमज़ान मास की  21 वी रात्री मे नमाज़े सुबह से पूर्व आपने इस संसार को त्याग दिया।
समाधि: आपकी शहादत के समय स्थिति बहुत भयंकर थी। चारो ओर शत्रुता व्याप्त थी तथा यह भय था कि शत्रु कब्र खोदकर लाश को निकाल सकते हैं। अतः इस लिए आप को बहुत ही गुप्त रूप से दफ़्न कर दिया गया। एक लम्बे समय तक आपके परिवार व घनिष्ठ मित्रों के अतिरिक्त कोई भी आपकी समाधि से परिचित नही था। परन्तु एक लम्बे अन्तराल के बाद अब्बासी ख़लीफ़ा हारून रशीद के समय मे यह भेद खुल गया कि इमाम अली की समाधि नजफ़ नामक स्थान पर है। बाद मे आप के अनुयाईयों ने आपकी समाधि का विशाल व वैभव पूर्ण निर्माण कराया। वर्तमान समय मे प्रतिवर्ष लाखों दर्शनार्थी आपकी समाधि पर जाकर सलाम करते हैं।
वतन  से मोहब्बत ईमान की निशानी है : हज़रत अली(अ.स.).
सभी इंसान या तो तुम्हारे धर्म भाई हैं या फिर इंसानियत के रिश्ते से भाई हैं | हजरत अली (अ.स)
प्रतिक्रियाएँ: 

Related

हजरत अली (अ.स) 7778839682819501736

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item