इस्लाम की हकीकत

इस्लाम एक ऐसा धर्म है जिसके बारे में समाज में तरह तरह की बातें फैली हुई हैं जिनमे से अधिकतर या ...



इस्लाम एक ऐसा धर्म है जिसके बारे में समाज में तरह तरह की बातें फैली हुई हैं जिनमे से अधिकतर या तो इसे बदनाम करने के लिए फैलाई गयी हैं या कुछ खुद को पैदायशी मुसलमान कहने वालों की अज्ञानता के कारन फैली हैं |
वैसे भी  अच्छे को बुरा साबित करना दुनिया की पुरानी  आदत है |

इस्लाम को बुरा साबित करने की कोशिश करने वालों का मुह बंद करने का आसान तरीका यह है कि इसके बताये कानून पे ईमानदारी से  चलके दिखाओ |

इस्लाम धर्म आदम के साथ आया और इसके कानून पे चलने वाला मुसलमान कहलाया |अज्ञानी को ज्ञानी बनाने का काम इस्लाम ने किया | इंसान को अल्लाह ने बनाया और जब हज़रत आदम को दुनिया में भेजा तो कुछ कानून उन्हें बताये ,जैसे कि कैसे जीवन गुजारो ? ऐसे ही एक लाख चौबीस हज़ार पैगम्बर आय और अल्लाह उनके ज़रिये इंसानों को इंसानियत का पैगाम देता रहा | एक इंसान में इर्ष्या ,हसद,लालच,जैसी न जाने कितनी बुराईयाँ हुआ करती हैं और इनपे काबू करते हुई जो अपना जीवन गुज़ार देता है सही मायने में इंसान कहलाता है या कहलें की सही मायने में मुसलमान कहलाता है |

 यह तो कुछ मुल्लाओं ने समाज में फैला दिया है की नमाज़ ,रोज़ा ,हज्ज ,दाढ़ी,का नाम मुसलमान है |जबकि मुसलमान नाम है इस्लाम के बताये कानून पे चलने का और यह कानून बताते हैं की, लोगों पे ज़ुल्म न करो,इमानदार रहो,इर्ष्या ,हसद और लालच से बचो |इस्लाम अपराध करने वाले जालिमो का साथ देने,उनसे सहानभूति करने वालों और ज़ुल्म देख के चुप रहने वालों को भी अपराधी करार देता है |आप कह सकते हैं की इस्लाम न अपराध करने वालों को पसंद करता है और न ही अपराध को बढ़ावा देने वालों को पसंद करता है | यह फ़िक्र करने की बात है कि इंसानियत का सबक सिखाने वाला इस्लाम आज आतंकवादियों के शिकंजे में कैसे फँस गया ?

 इंसान की फितरत है की वो दौलत,शोहरत,ऐश ओ आराम के पीछे भागता है और अल्लाह कहता है की इसके पीछे न भागो वरना जीवन नरक बन जाएगा | हमें बात समझ नहीं आती और हम लगते हैं दूसरों का माल लूटने,दहशत फैलाने ,बलात्कार करने और नतीजे में इंसानियत का क़त्ल होता जाता है |

पैगम्बर इ इस्लाम हज़रात मुहम्मद (स.अ.व) के इस दुनिया से जाने के बाद ऐसे बहुत से ताक़तवर लोग थे जिनका मकसद था दौलत,शोहरत,ऐश ओ आराम हासिल करना और वही लोग ताक़त और मक्कारी के दम पे बन बैठे इस्लाम के ठेकेदार | नतीजे में हक की राह पे चलने वाले मुसलमानों और गुमराह करने वाले मुसलमानों में आपस में जंग होने लगी | कर्बला की जंग इसकी बेहतरीन मिसाल है | जहां एक तरफ यजीद था जो मुसलमानों का खलीफा बना बैठा था और दुनिया में आतंक फैलता नज़र आता था| ज़ुल्म और आतंक की ऐसी मिसाल आज तक नहीं देखने को मिली | और दुसरी तरफ थे पैगम्बर इ इस्लाम के नवासे इमाम हुसैन (अ.स)जिन्होंने दुनिया को सही इस्लाम सिखाया, इंसानियत और सब्र का पैगाम दिया | नतीजे में उनको जालिमो ने शहीद कर दिया |

 आज भी इस समाज में खुद को मुसलमान कहने वाले दो तरह के लोग हुआ करते हैं | एक वो जो नाम से तो मुसलमान लगते हैं ,नामा,रोज़ा ,हाज ,ज़कात के पाबंद दिखते तो हैं लेकिन इस्लाम के बताये कानून पे नहीं चलते | यह वो लोग हैं जो इस्लाम का साथ तभी तक देते हैं जब तक इनका कोई नुकसान न हो | जैसे ही इनके सामने दौलत ,शोहरत ,औरत आती है यह इस्लाम के बताये कानून को भूल जाते हैं और जब्र से,मक्कारी से,झूट फरेब से दौलत,शोहरत को हासिल कर लिया करते हैं | कुरान में इन्हें मुनाफ़िक़ कहा गया है और इनसे दूर रहने का हुक्म है |ऐसे फरेबियों का हथियार होते हैं समाज के अज्ञानी लोग |

 एक उदाहरण है इस्लाम में परदे का हुक्म| यह सभी जानते हैं की औरत के शरीर की तरफ मर्द का और मर्द के शरीर की तरफ औरत का आकर्षित होना इन्सान की फितरत है | इसी वजह से इस्लाम में इसको उस वक़्त तक छुपाने का हुक्म दिया है जब तक की दोनों को एक दुसरे से शारीरिक सम्बन्ध न बनाना  हो | इस्लाम में शारीरिक सम्बन्ध बनाने  के भी कुछ कानून हैं | 

शायरों को भी कहते सुना जाता है की “चेहरा छुपा लिया है किसी ने हिजाब में,जी चाहता है आग लगा दूँ नक़ाब में | इसका मतलब साफ़ है की पर्दा उसे बुरा लगता है जो औरत के शरीर को खुला देखना चाहता है ॥ इस्लाम में एक दुसरे का “महरम” उसे कहते हैं जिसके साथ शादी न हो सके .जैसे माँ ,बहन,बेटी,दादी,नानी इत्यादि | और जिसके साथ शादी हो सकती है उसे “नामहरम”कहते हैं और नामहरम का एक दुसरे से शरीर का छिपाना आवश्यक है | संसार की सभी सभ्यताओं में ऐसा ही कानून है बस इस परदे का अलग अलग तरीका है |


 वोह औरतें या मर्द जो जानवरों की तरह कहीं भी ,कभी भी, किसी से भी ,शारीरिक सम्बन्ध बना लेने को गलत नहीं समझते यदि अपने शरीर का प्रदर्शन करते दिखाई दें तो बात समझ में आती है लेकिन आश्चर्य तो उस समय होता है जब वो लोग जो इस्लाम के कानून को मानने का दावा करते हैं अपने शरीर का प्रदर्शन करते नजर आते हैं| 

कई बार तो महरम और नामहरम की परिभाषा भी यह बदल देते हैं |कभी किसी नामहरम के करीब जाते हैं तो कहते हैं बेटी जैसी है, कभी कहते हैं बहन जैसी है | वहीं इस्लाम कहता है यह नामहरम है इस से पर्दा करो | “अल्लाह ओ अकबर “ का नारा लगाने वाले ऐसे दो चेहरे वाले मुसलमानों के यहाँ होता वही है जो यह चाहते हैं या जो इनका खुद का बनाया कानून कहता है |क्योंकि सवाल नामहरम औरत की कुर्बत का है| अल्लाह कहता है दूर रहो ,इंसान का दिल कहता है औरत के करीब रहो |जीत इन्सान के दिल की गलत ख्वाहिशों की होती है और नतीजे में कभी बलात्कार होता है कभी व्यभिचार होता है |जब औरत के शरीर के करीब रहने की लालच इंसान को अल्लाह से दूर कर देती है,इस्लाम के कानून को भुला देता है तो दौलत और शोहरत की लालच के आड़े आने वाले इस इस्लाम के कानून को भुला देने में कितनी देर लगेगी | 

 यदि आप को यह पहचानना हो कि यह शख्स इस्लाम को मानने वाला है या नहीं |मुसलमान है या नहीं ? तो उसकेसजदों को न देखो,न ही उसकी नमाज़ों को देखो बल्कि देखो उसके किरदार को ,उसकी सीरत को ,और यदि वो हज़रत मुहम्मद (स.अ.व) से मिलती हो,या वो शख्स समाज में अमन और शांति फैलाता दिखे या वो शख्स इंसानों मेंआपस में मुहब्बत पैदा करता दिखे तो समझ लेना मुसलमान है | 

ज़ालिम,नफरत का सौदागर कभी मुसमान नहीं हो सकता | 

बुरा इस्लाम नहीं बल्कि उसका इकरार करने के बाद भी उसके कानून को ना मानने वाला इंसान है |
प्रतिक्रियाएँ: 

Post a Comment

  1. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त

    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete
  2. मुस्लिम धर्म शुरू में भले ही अच्छा हो लेकिन उसके बाद में यह धर्म तलवार के जोर पर फैला जिसका परिणाम यह हुआ कि मुस्लिम धर्म हिंसक धर्म के नाम से कुख्यात हुआ और उसके बाद यह धर्म कट्टरपंथी मुल्ला मौलवियों के अधीन हो गया जो अपने धर्म के लिए सोचते है वो दर्जा दूसरे धर्म के लोगों को देने को तैयार नहीं !
    सुन्दर लेख !!

    ReplyDelete
  3. पूरण जी इस्लाम तलवार के जोर पे नहीं किरदार के जोर पे फैला है क्योंकि इस्लाम को फैलाने वाले हजरत मुहम्मद (स.अ.व) ने अपने जीवन में कभी तलवार नहीं उठाई | क्या आप इस सत्य को जानते हैं?

    ReplyDelete
  4. मसूम साहब में जानता हूँ क्योंकि किसी भी धर्म के लिए अहिंसा,प्रेम मुख्यतः बातें होती है जिनके बिना कोई धर्म पनप नहीं सकता और इस्लाम में भी ये सब बातें थी लेकिन बाद में धीरे धीरे ये धर्म कट्टरपंथ कि और बढ़ता गया और इस्लाम से जुड़े जिन लोगों नें भी इस्लाम के मूल स्वरूप को बचाने कि कोशिश की उनकी ह्त्या कर दी गयी ! ये घटनाएं तो उसी समय कि है जब हजरत मुहम्मद साहब का महाप्रयाण हो गया था ! उसके बाद तो आप इतिहास उठा के देख लीजिए कि किस तरह से यह धर्म कट्टरपंथियों के हाथों में चला गया और किस तरह तलवार के बल पर इस्लाम अपनाने के लिए लोगों को मजबूर किया गया !

    ReplyDelete
  5. पूरण जी आप की बात से सहमत हूँ |

    ReplyDelete
  6. masum ji aapne kaha hajarat muhammad ne kabhi talwar nahi udai. per unke samay arab mein sabse jyada yudh hue.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब भी सत्य का प्रकाश उज्जवलित हुआ अंधेरों के बादशाहों ने युद्ध की शुरुआत कर दी | यही कारन था की हजरत मुहम्मद से युद्ध करने लोग आते गए
      कोई भी युद्ध ऐसा नहीं ता जिसकी शुरुआत हजरत मुहम्मद ने की हो

      Delete

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा के मुआज्ज़ात और जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item