यह ख़ुशी सबको मुबारक हो.

आज शाम से ही घर मैं सब खुश है ! कल इस्लाम के रहबर , सभी मुसलमाओं के खलीफा, पैगम्बर इ इस्लाम हजरत मुहम्मद (स०) के उत्तराधिकारी, हज़रत अमीरुल...


आज शाम से ही घर मैं सब खुश है ! कल इस्लाम के रहबर , सभी मुसलमाओं के खलीफा, पैगम्बर इ इस्लाम हजरत मुहम्मद (स०) के उत्तराधिकारी, हज़रत अमीरुल मोमिनीन अली अलैहिस्सलाम का जन्मदिन है। आप आदरणीय पैगम्बर इ इस्लाम हजरत मुहम्मद (स0) के दामाद भी थे .आप का जन्म रजब मास की 13वी तारीख को हिजरत से 23वर्ष पूर्व मक्का शहर के विश्व विख्यात व अति पवित्र स्थान काबे मे हुआ था।
कल ख़ुशी का दिन है, हम सब अमीरुल मोमिनीन अली अलैहिस्सलाम, की बताई बातों का ज़िक्र करेंगे, और उनका अमन का पैगाम, सदाचार और इंसानियत का पैगाम अपने बच्चों  तक पहुंचाएंगे जिस से वोह एक बेहतरीन  इंसान बन सकें. कल घर मैं खीर और सेवएं की बहार आएगी, पडोसी और रिश्तेदार आएंगे, मुहब्बत और भाईचारा बढेगा.
हज़रतअली पैगम्बर की देखरेख मे प्रशिक्षित हुए। हज़रतअली ने अपने एक प्रवचन में  कहा कि मैं पैगम्बर के पीछे पीछे इस तरह चलता था जैसे ऊँटनी का बच्चा अपनी माँ के पीछे चलता है। पैगम्बर (स)  प्रत्येक दिन मुझे एक सद्व्यवहार सिखाते व उसका अनुसरन करने को कहते थे।
जब आदरणीय मुहम्मद (स0)  ने अपने पैगमबर होने की घोषणा की तो हज़रतअली वह प्रथम व्यक्ति थे जिन्होंने आपके पैगम्बर होने को स्वीकार किया तथा आप पर ईमान लाए।

imageहज़रत पैगम्बर ने अपने स्वर्गवास से तीन मास पूर्व हज से लौटते समय ग़दीरे ख़ुम नामक स्थान पर अल्लाह के आदेश से सन् 10 हिजरी मे ज़िलहिज्जा मास की 18वी तिथि को हज़रतअली को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया।
अपने पाँच वर्षीय शासन काल मे उन्होने अधिकारिक क्षेत्र मे सुधार करके जनता को समान अधिकार प्रदान किये। शासन की ओर से दी जाने वाली धनराशि के वितरण मे व्याप्त भेद भाव को समाप्त करके समानता को स्थापित किया। उन्होंने कहा कि निर्बल व्यक्ति मेरे समीप हज़रत हैं मैं उनको उनके अधिकार दिलाऊँगा।व अत्याचारी व्यक्ति मेरे सम्मुख नीच है.
हज़रत अली (अ) ने सिखाया : मुसलमान तुम्हारा धर्म भाई है और दुसरे इंसान तुम्हारे इंसानियत के रिश्ते से भाई हैं. दोनों का तुमपर अधिकार है. सभी इंसान एक दुसरे के मददगार हैं.




हज़रतअली (अ की यह कविता मुझे हमेशा से पसंद रही है...

सीने में तेरे तेरा हर इक दर्द छुपा है
और ढूंढ कि हर मर्ज़ की तुझ में ही दवा है

तू समझा कि तू कुछ भी नहीं कुछ भी नहीं है
तू दिल में ज़रा झांक कि आलम तो यहां है

तू देख कि तुझ में भी किताब ऐसी नेहां है
हर लफ़्ज़ से जिस के तेरा हर राज़ अयां है

ढूंढे है ज़माने में जो तुझ में ही नहीं है
बेदारी जो तुझ में है,तुझे इल्म कहां है

प्रोफेसर Nicholson ने अपनी पुस्तक " History of अरब" मैं टिप्पणी की "अली एक बहादुर योद्धा, एक बुद्धिमान परामर्शदाता, एक सच्चे दोस्त और उदार शक्सियत का मालिक था .
यह वोह अली (अ) है जिसकी ओलादों ने कर्बला मैं शहादत दे के इस्लाम को दहशतगर्दों से बचाया और बताया इस्लाम नाम है सब्र का, हक के लिए जान को कुर्बान करने का, किसी की जान लेना, किसी को बे इज्ज़त करने का नाम इस्लाम नहीं है.  इमाम हुसैन (अ०) जो की हज़रात अली(अ) के पुत्र थे , उनको उनके ७२ साथिओं ( दोस्त और रिश्तेदार) के साथ , यजीद ने ,जो की एक ज़ालिम बादशाह था, ज़ुल्म के साथ कर्बला मैं शहीद कर दिया.
इमाम हुसैन ने यह भी इजाज़त मांगी याज़ेद की फ़ौज से की "मुझको हिंदुस्तान जाने दो जहां इंसान बसते हैं."
लेकिन इजाज़त ना मिली और भूखा प्यासा शहीद कर दिया जालिमों ने.

इंसानियत का पैग़ाम देने वाले इमाम अली (अ.स) की विलादत सभी को मुबारक हो.
हज़रत अली (अ) ने हमको सीखाया: जब कोई कुछ कहे तो यह ना देखो कौन (किस धर्म का) कह रहा है, यह देखो की क्या कह रहा है.
प्रतिक्रियाएँ: 

Related

अहले बैत 4543809192267913436

Post a Comment

  1. इस मुबारक मौक़े पर आपने बहुत अच्छी पोस्ट लगाई है।
    हम सबको यह मौक़ा मुबारक हो।
    शुक्रिया !

    ReplyDelete

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item