अगर तुम ज़िन्दा रहो तो तुम्हारे अभिलाषी हो।

अगर अपने दुश्मन का दिल जीतना  चाहो तो उस पर अपनी नेकियों  का दरवाज़ा खोल दो। मक़सद यह है कि तुम्हारा दुश्मन जिस के  सीने में बुग़्ज़ व अदावत...

अगर अपने दुश्मन का दिल जीतना  चाहो तो उस पर अपनी नेकियों  का दरवाज़ा खोल दो। मक़सद यह है कि तुम्हारा दुश्मन जिस के  सीने में बुग़्ज़ व अदावत के शोले भड़क रहे हों उसपे  अपने अच्छे एखलाक  और अच्छे किरदार   की ऐसी बारिश करो कि उस को  अपनी करनी पे शर्मिन्दी का एहसास होने लगे. अदावत के शोले सर्द पड़ जायें, मुहब्बत की गर्मी  पैदा हो और दुश्मनी दोस्ती में तब्दील हो जाये। 



हजरत अली(अ.स) ने नहजुल बालाघा मैं फ़रमाया  कि लोगों के बीच ऐसे रहो  कि अगर मर जाओं तो वो तुम पर रोयें और ज़िन्दा रहो तो तुम्हारे  अभिलाषी हो। 

आज दुनिया की नज़र में हुस्ने अख़लाक़, फ़रेब, हमदर्दी और मसलहत परस्ती की नाम है. हजरत अली(अ.स) ने नहजुल बालाघा मैं फ़रमाया की  हुस्ने अख़लाक़ के यह मतलब  है , अगर अपने दुश्मन को पाओ तो उस को माँफ़ कर देना और अल्लाह का शुकर अदा करना . 




जब तुम पर सलाम किया जाये तो उस का जवाब अच्छे तरीक़े से दो और जब तुम पर कोई अहसान करे तो उसे उस से बढ़ कर बदला दो। हुस्ने अख़लाक़ दुश्मनों को दोस्त  बना देता है और यह एक ऐसा अमल है जो गुनाहों को पिघला देता है.
हुस्ने अख़लाक़ की अहमियत का अंदाज़ा इस बात से भी होता है कि हजरत अली(अ.स) ने  दुसरे धर्म के लोगों के साथ भी हुस्ने अख़लाक़ के साथ पेश आने की ताकीद की है। 


हम सभी ने बचपन मैं, किताबों मैं एक  कहानी पढ़ी है,  एक बुढ़िया जो रोज़  रसूल इ खुदा(स.अव) पे  कूड़ा फेंकती थी , कैसे रसूल इ खुदा(स.अ.व) उसका हाल पूछने उसकी बीमारी मैं गए.  



एक और मिसाल है, की एक औरत जो इस्लाम पे नहीं थी और जिसके दिल मैं रसूल इ खुदा (स.अ.व) के लिए नफरत भर  दी गयी थी, उसने एक दिन फैसला किया की वोह उस जगह से दूर चली जाएगी जहाँ यह मुहम्मद (स.अ.व) रहते हैं.वो इसी ख्याल से अपने सामान के साथ बाहर आई और शहर से दूर जाने वाली सड़क पे चलने लगी. थक गयी तो आराम कर ने लगी, इतने मैं एक शख्स आया , उसका हाल पुछा, उसने अपनी परेशानी बताई और मुहम्मद (स.अ.व) की बुराई  करने लगी, की उसकी वजह से आज वतन से दूर जाना पड रहा है. उस इंसान ने कहा चलो मैं तुमको इस शहर से दूर तुम जहाँ जा रही हो पहुंचा देता हूँ. जब दोनों शहर से बहार पहुँच गयी तो उस औरत ने शुक्रिया अदा किया और कहा भाई तुमने अपना नाम तक नहीं बताया? उस शख्स ने कहा मैं वही मुहम्मद (स.अ.व) हूँ जिसकी वजह से तुम वतन से दूर जा रही हो. वोह औरत ताज्जुब मैं पड़ गयी और शर्मिंदा हुई, की मैंने तुमको कितना बुरा भला रास्ते भर  कहा और तुम कुछ ना बोले , बल्कि मेरी मदद की. उस औरत ने माफ़ी मांगी और कहा एक एहसान  और कर दो  , मुझे वापस मेरे घर वापस  पहुंचा दो. मैं अब उसी मुहम्मद(स.अव) के वतन मैं रहना चाहती हूँ.
प्रतिक्रियाएँ: 

Related

आज कि समस्याएं 2979182792697593354

Post a Comment

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item