इस्लाम में जबरदस्ती नहीं।

इस्लाम पर ये इल्ज़ाम है कि इस्लाम तलवार के जोर से फैला। इसको मानने वाले दूसरों को मबूर करते हैं कि वे इस र्ध्मा को अपना लें वरना उनकी गर्दन...

11_thumb1 इस्लाम पर ये इल्ज़ाम है कि इस्लाम तलवार के जोर से फैला। इसको मानने वाले दूसरों को मबूर करते हैं कि वे इस र्ध्मा को अपना लें वरना उनकी गर्दन अलग कर दी जायेगी। आमतौर पर जिहाद से मुताल्लिक कुछ आयतों को आध्राा बनाकर इस्लाम को अशांति फैलाने वाला मज़हब कह दिया जाता है। खास तौर से सूरे तौबा की कुछ आयतें लोगों को बेचैन करती रहती हैं। जो इस तरह हैं,

‘अल्लाह की तरफ से और उसके रसूल की तरफ से उन मुशरिकीन के अहद से दस्तबरदारी है, जिन में तुमने अहद रखा था।’ - सूरतुल तौबा आयत (1)

‘सो जब अश्हूर-हुर्म गुज़र जायें तो इन मुशरिकीन को जहाँ पाओ मारो और पकड़ो और बांधो और दाँव घात के मौकों पर ताक लगाकर बैठो। फिर अगर तौबा कर ले और नमाज पढ़ने लगे और जकात देने लगे तो इन का रास्ता छोड़ दो।’ - सूरतुल तौबा आयत (9)

‘ऐ ईमानवालों, अपने बापों को, अपने भाईयों को अपना रफीक मत बनाओ अगर वह कुफ्र को बमुकाबिला ईमान अज़ीज़ रखें और तुममें से जो शख्स इनके साथ रफाकत रखेगा, सो ऐसे लोग बड़े नाफरमान हैं।’ - सूरतुल तौबा आयत (23)

‘लोग चाहते हैं कि अल्लाह के नूर को अपने मुंह से फूंक मारकर बुझा दें, हालांकि अल्लाह तआला बावजूद इसके अपने नूर को कमाल तक पहुंचा दे, मानेगा नहीं, गो काफिर कैसे ही नाखुश हों। - सूरतुल तौबा आयत (32)

हकीकत ये है कि सूरे तौबा की ये आयतें कुछ खास सिचुएशन के लिये हैं जबकि इस्लाम के मानने वालों पर दुश्मनों का हमला हो और मुकाबले के सिवा कोई और चारा न हो। 

कुरआन की शान्ति का पैगाम देती हुई कुछ आयतें।

(2:256) दीन में किसी तरह की ज़बरदस्ती नहीं। क्योंकि हिदायत गुमराही से अलग (ज़ाहिर) हो चुकी है तो जिस शख्स ने झूठे खुदाओं (बुतों) से इंकार किया और अल्लाह ही पर ईमान लाया तो उसने वो मज़बूत रस्सी पकड़ी है जो टूट नहीं सकती और अल्लाह सब कुछ समझता और जानता है।

(2:272) (ऐ रसूल) उनको मंजिले मकसूद तक पहुंचाना तुम्हारा काम नहीं (तुम्हारा काम सिर्फ रास्ता दिखाना है) मगर हां अल्लाह जिसको चाहे मंजिले मकसूद तक पहुंचा दे।

(7:56) अपने परवरदिगार से गिड़गिड़ाकर और चुपके चुपके दुआ करो वह हद से तजाविज़ करने वालों को हरगिज़ दोस्त नहीं रखता और ज़मीन में असलाह के बाद फसाद न करते फिरो और (अज़ाब) के खौफ से और (रहमतों) की आस लगाकर अल्लाह से दुआ मांगो।

(2:11-12) और जब उनसे कहा जाता है कि मुल्क में फसाद न करते फिरो तो कहते हैं कि हम तो सिर्फ अस्लाह करते हैं। खबरदार हो जाओ बेशक यही लोग फसादी हैं लेकिन समझते नहीं।

(88:21-22) तो तुम नसीहत करते रहो। तुम तो बस नसीहत करने वाले हो। तुम कुछ उनपर दरोगा तो हो नहीं।

(109:5-6) और जिसकी मैं इबादत करता हूं उसकी तुम इबादत करने वाले नहीं। तुम्हारे लिये तुम्हारा दीन मेरे लिये मेरा दीन।

(9:6) और (ऐ रसूल) अगर मुशरिकीन में से कोई तुमसे पनाह मांगे तो उसको पनाह दो यहाँ तक कि वह अल्लाह का कलाम सुन ले फिर उसे उसकी अमन की जगह पर वापस पहुंचा दो ये इस वजह से कि ये लोग नादान हैं।

(4-80) जिसने रसूल की इताअत की तो उसने अल्लाह की इताअत की और जिसने नाफरमानी की तो तुम कुछ ख्याल न करो (क्योंकि) हमने तुमको पासबान मुकर्रर करके तो भेजा नहीं।

(6-107) और अगर अल्लाह चाहता तो ये लोग शिर्क ही न करते और हमने तुमको उन लोगों का निगेहबान तो बनाया नही है और न तुम इनके जिम्मेदार हो।

(10-99, 10-100) और अगर तेरा परवरदिगार चाहता तो जितने लोग रूए ज़मीन पर हैं सबके सब ईमान ले आते तो क्या तुम जबरदस्ती करना चाहते हो! ताकि सबके सब ईमानदार हो जायें हालांकि किसी शख्स को ये अख्तियार नहीं कि बगैर अल्लाह की मर्जी ईमान ले आये और जो लोग अक्ल से काम नहीं लेते उन्ही लोगों पर अल्लाह गंदगी डाल देता है।

इससे साबित होता है कि इस्लाम और ईमान ज़बरदस्ती का सौदा नहीं है। और इसके लिये कोई किसी को मजबूर नहीं कर सकता। यहाँ तक कि अल्लाह का रसूल भी नहीं। अत: ये इल्जाम सरासर गलत है कि इस्लाम तलवार के जोर से फैला।

…जीशान हैदर जैदी

प्रतिक्रियाएँ: 

Post a Comment

  1. सच कहा इस्लाम और ईमान ज़बरदस्ती का सौदा नहीं है

    ReplyDelete
  2. अच्छी जानकारियों से सजा हुआ आलेख ।

    ReplyDelete

emo-but-icon

Follow Us

Hot in week

Recent

Comments

Admin

Featured Post

नजफ़ ऐ हिन्द जोगीपुरा का मुआज्ज़ा , जियारत और क्या मिलता है वहाँ जानिए |

हर सच्चे मुसलमान की ख्वाहिश हुआ करती है की उसे अल्लाह के नेक बन्दों की जियारत करने का मौक़ा  मिले और इसी को अल्लाह से  मुहब्बत कहा जाता है ...

Discover Jaunpur , Jaunpur Photo Album

Jaunpur Hindi Web , Jaunpur Azadari

 

Majalis Collection of Zakir e Ahlebayt Syed Mohammad Masoom

A small step to promote Jaunpur Azadari e Hussain (as) Worldwide.

भारत में शिया मुस्लिम का इतिहास -एस एम्.मासूम |

हजरत मुहम्मद (स.अ.व) की वफात (६३२ ) के बाद मुसलमानों में खिलाफत या इमामत या लीडर कौन इस बात पे मतभेद हुआ और कुछ मुसलमानों ने तुरंत हजरत अबुबक्र (632-634 AD) को खलीफा बना के एलान कर दिया | इधर हजरत अली (अ.स०) जो हजरत मुहम्मद (स.व) को दफन करने

जौनपुर का इतिहास जानना ही तो हमारा जौनपुर डॉट कॉम पे अवश्य जाएँ | भानुचन्द्र गोस्वामी डी एम् जौनपुर

आज 23 अक्टुबर दिन रविवार को दिन में 11 बजे शिराज ए हिन्द डॉट कॉम द्वारा कलेक्ट्रेट परिसर स्थित पत्रकार भवन में "आज के परिवेश में सोशल मीडिया" विषय पर एक गोष्ठी आयोजित किया गया जिसका मुख्या वक्ता मुझे बनाया गया । इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी

item